Helpline-Police Stations Women Help Desk – थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की योजना

Police Stations Women Help Desk Details  थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की योजना: हेलो दोस्तों, जिसकी आप देख रहे हो की आज कल महिला पर अत्याचार की घटनाएं बढ़ रही है। या देखते हुए केंद्र सरकार ने महिलाओं के खिलाफ लगतार बढ़ रहे अपराधों को कम करने के लिए बहुत बड़ा फैसला लिया है। सभी थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की योजना के निर्देश दे दिये हैं। जिसकी आप देख रहे है की अभी हैदराबाद कांड और इससे पहले महिलाओं के साथ हुई दुष्कर्म की घटनाओं लगातरा हो रही है इसलिए भी थी की सरकार जल्द से जल्द कोई ठोस कदम उठाए।

 सभी थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की योजना

महिला के लिए मोदी सरकार ने सुरक्षा यह फैसला सराहनीय तो है पर हम्हारे देस पर प्रधानमंत्री जी को और भी बड़े कदम उठाने होंगे। जिससे भविष्य में ये काम आगे न हो पाए इसलिए मोदी सरकार ये फालसा लिया है की कड़ी से कड़ी सजा मिले और अपराधियों के मन में डर बैठे। यह योगजान अब सभी के लिए 100 करोड़ की राशि निर्भया फंड से मंजूर की गई है| की आने वाले समय में इसे बढ़ाया जा सकता है | महिला हेल्प डेस्क बनाने की योजना को देश में सभी राज्यों के साथ-साथ केंद्र शासित प्रदेशों में भी जल्दी शुरू किया जाएगा।

सभी थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की योजना-

आज देश में महिलाओ के साथ बहुत अन्याय हो रहा है इसको ध्यान में रखते हुए महिलाओ को न्याय दिलाने के लिए देश में महिला सहायता योजना शुरू की जा रही है जिसका मुख्य उद्येश्य महिला द्वारा की जाने वाली शिकायत को महिला सहायता डेस्क पर करना है महिलाओ को शिकायत के लिए पुलिस स्टेशन जाना नहीं पड़ेगा और इन महिला सहायता डेस्क सिर्फ और सिर्फ महिला पुलिस कर्मी अधिकारी को ही तैनात किया जाएगा जिनको महिलाओं के प्रति संवेदनशील होने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा |

महिला सुरक्षा पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला-

महिला हेल्प डेस्क कानूनी सहायता, पुनर्वास और आश्रय की सुविधा देने के लिए वकीलों गैर सरकारी संगठनों और मनोवैज्ञानिकों विशेषज्ञों के पैनल को सूचीबद्ध करते है | बता दें केंद्र का यह फैसला ऐसे समय में आया है| देस में यह महिलाओं के साथ रेप और बर्बर तरीके से हत्या के मामले सामने आ रहे हैं पूरे देश में इन घटनाओं के कारण रोष व्याप्त है।

 

Advertisements
2 Comments
  1. December 7, 2019
  2. December 7, 2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *